शराब के नशे में दरोगा ने ऐसी बातें कह दीं कि सिपाही ने उसकी जान ले ली

मैनपुरीः दरोगा राधारमण हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। पुलिस की जांच में सिपाही सत्यप्रकाश द्वारा दरोगा की हत्या करना बताया गया है। दरोगा राधारमण और सिपाही सत्यप्रकाश-दोनों आपस में मिलकर शराब पी रहे थे, तभी दरोगा ने सिपाही सत्यप्रकाश की पत्नी के बारे में अश्लील टिप्पणी कर दी थी। इससे गुस्साए सत्यप्रकाश ने दरोगा की हत्या कर दी।

मोबाइल ने खोला हत्या का राज

-पुलिस ने मोबाइल सर्विलांस के जरिए सिपाही को पकड़ा। हत्या करने के बाद सिपाही दरोगा का मोबाइल फोन ले गया था। पुलिस ने दरोगा के मोबाइल नंबर को सर्विलांस में डाल दिया था। कुछ दिनों तक बंद रहने के बाद जैसे ही मोबाइल फोन को आॅन किया, सिपाही सत्यनारायण पुलिस के शिकंजे में आ गया।

आठ सितंबर को हुई थी हत्या

-8 तारीख दरोगा राधारमण की लाश मैनपुरी की पुलिस लाइन की आरटीसी बैरक के बाथरूम में संदिग्ध अवस्था में मिली थी। शुरु में तो पुलिस आत्महत्या मान रही थी।

-लेकिन मृतक के भाई की ओर से हत्या की तहरीर दिए जाने के बाद अधिकारियों ने जांच के आदेश दिए थे। जांच में सिपाही द्वारा हत्या करने की बात सामने आई है।

पत्नी को बुलाने के लिए कहा था

-पूछताछ में सिपाही ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। एएसपी ओमप्रकाश ने बताया कि मृतक दरोगा राधारमण और गिरफ्तार सिपाही ने साथ मिलकर शराब पी थी और चिकन खाया था। उसी दौरान दरोगा का विवाद सिपाही से हो गया। शराब के नशे में दरोगा ने सत्यनारायण को अपनी पत्नी को लाने के लिए कहा। दरोगा राधारमण बाथरूम गया तभी पीछे से सिपाही सत्यप्रकाश ने दारोगा की बेल्ट से उसकी गला दबाकर हत्या कर दी और मौके से फरार हो गया। वहीं पुलिस ने बताया कि ये सिपाही पहले भी एक मामले में जेल जा चुका है।